Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 25 a 27

Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 25 a 27

Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 25 a 27 Ramana Maharshi : Esencia de Enseñanzas  (Essence of Teachings) Sanskrit Verses, English Meaning and Spanish Translation   उपदेश सारम – रमणा 25 वेषहानतः स्वात्मदर्शनम | ईशदर्शनम स्वात्मरूपतः || veṣa-hānataḥ svātma-darśanam

मैं कौन हूँ? (19)

मैं कौन हूँ? (19)

मैं कौन हूँ? (19) रमण महर्षि के उपदेश ॐ नमो भगवते श्रीरमणाय मैं कौन हूँ? 19.  वैराग्य क्या है? जैसे ही विचार उदित हों, उनके स्रोत पर ही, उनका बिना कोई अवशेष छोड़े, उन्हें तुरन्त नष्ट कर देना ही वैराग्य

நான் யார் ? (19)

நான் யார் ? (19)

நான் யார் ? (19) ஸ்ரீ ரமண பகவான் அருண்மொழி (வினா-விடை வடிவம்) ஓம் நமோ பகவதே ஸ்ரீ ரமணாய நான் யார்? (தொடர்ச்சி) 19 வைராக்கியமாவது எது? எவ்வெந் நினைவுகள் உற்பத்தியாகின் றனவோ அவற்றை யெல்லாம் ஒன்றுகூட விடாமல் உற்பத்தி ஸ்தானத்திலேயே நசுக்கிப் போடுவதே வைராக்கியமாம். முத்துக் குளிப்போர் தம்மிடையிற் கல்லைக் கட்டிக் கொண்டு

रमण महर्षि के उपदेश : 7

रमण महर्षि के उपदेश : 7

रमण महर्षि के उपदेश : 7 रमण महर्षि के साथ बातचीत बातचीत 398 आदत हमें यह विश्वास दिलाती है कि सोच को रोकना मुश्किल है। अगर गलती का पता चला, तो कोई भी व्यक्ति खुद को परेशान नहीं करेगा अनावश्यक

रमण महर्षि के उपदेश : 6

रमण महर्षि के उपदेश : 6

रमण महर्षि के उपदेश : 6 रमण महर्षि के साथ बातचीत बातचीत 472 विचारों से मुक्त रहें। किसी भी चीज पर पकड़ न रखें। वे तुम्हें नहीं पकड़ते। वास्तविक बने रहें।

43. இன்னல்களிலிருந்து மீள்வது எப்படி; மனக் கட்டுப்பாடு; மெய்யான “நான்”, பொய்யான “நான்”

43. இன்னல்களிலிருந்து மீள்வது எப்படி; மனக் கட்டுப்பாடு; மெய்யான “நான்”, பொய்யான “நான்”

43. இன்னல்களிலிருந்து மீள்வது எப்படி; மனக் கட்டுப்பாடு; மெய்யான “நான்”, பொய்யான “நான்”   ரமண மகரிஷியுடன் உரையாடல்கள். உரையாடல் 43. சில பக்தர்கள் ஆஸ்ரமத்திற்கு வந்தார்கள். அவர்கள் ரங்கநாதன், ராமமூர்த்தி, ராகவைய்யா. திரு ரங்கநாதன் கேட்டார்.  மனதை எப்படிக் கட்டுப்படுத்துவது என்று தயவுசெய்து அறிவுரை தர வேண்டும். மகரிஷி: அதற்கு இரண்டு விதங்கள் உள்ளன. ஒன்று,

Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 22 a 24

Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 22 a 24

Upadesa Saram – Esencia de Enseñanzas – 22 a 24 Ramana Maharshi : Esencia de Enseñanzas  (Essence of Teachings) Sanskrit Verses, English Meaning and Spanish Translation   उपदेश सारम – रमणा 22 विग्रहेन्द्रियप्राणधीतामः | नाहमेकसत्तज्जडम ह्यसत || vigrah-endriya prāṇa-dhītamaḥ nāhameka-sat

मैं कौन हूँ? (16 – 18)

मैं कौन हूँ? (16 – 18)

मैं कौन हूँ? (16 – 18) रमण महर्षि के उपदेश ॐ नमो भगवते श्रीरमणाय मैं कौन हूँ? 16. स्वरूप का स्वभाव क्या है? यथार्थ में जो अस्तित्त्वमान् है, वह केवल आत्मस्वरूप है। जगत्, जीव और ईश्वर इसमें मोती में चाँदी

↓
error: Content is protected !!